Sunday, 23 October 2016

गुजराती की दुनिया में आपका स्वागत है | Welcome to world of Gujarati

नमस्ते मित्रो,
गुजराती की दुनिया में आपका स्वागत है| मैं कौशिक हूँ| मैं 
मराठी सिखाने वाले दो और गुजराती सिखने वाले एक ब्लॉग का लेखक हूँ:


इन तीनो ब्लॉग की सफलता के बाद मैंने समान ढाँचे से यह ब्लॉग बनाने का तय किया है - हिंदी से गुजराती सिखाने के लिये |

मेरे अंग्रेजी ब्लॉगका हिन्दी अनुवाद करने में सबसे बडा योगदान पथिक जोशी जी का है |

यहाँ पर मैंने गुजराती भाषा की आधारभूत बातो को अंग्रेजी में समजाने के प्रयास किए है| लेकिन कुछ स्थानों पर मैंने हिन्दी के उदाहरणों का भी सहारा लिया है|

कुछ अक्षरों को छोड़कर हिन्दी और गुजराती की लिपि लगभग एक जैसी होती है| अक्षरों का उच्चारण भी एक जैसा होता है| अतः जो हिन्दी से परिचित है, वे गुजराती आसानी से सिख सकते है और आपका उच्चारण सिखने का समय बचा सकते है|
तो यदि आप हिन्दी जानते है, गुजराती सिखने का यह सफ़र आपके लिए दुसरे लोगो के मुकाबले सरल होगा|


मेरा खुद का अनुभव है कि कोई भी भाषा यदि उसी भाषा की लिपि में सीखी जाए, तो वह ज्यादा सहायक सिद्ध होती है| तो सबसे पहले गुजराती वर्णमाला सीखनी चाहिए| देवनागरी लिपि में गुजराती सिखने के बजाय यदि गुजराती लिपि में सीखी जाए तो ज्यादा अच्छा है|

For most of the examples transliteration is given in Roman script is as well. This is for convenience of search-ability on internet.

While learning language, the student is very excited and he want to speak the full sentences as early as possible. He wants to be able to communicate from day 1. Obviously it will not be possible, because you have just used few words !! you can not communicate everything from these few words. Realization of this fact de-motivates the student.  So many language learning programs shower the student with list of full sentences. This looks good first, but it does not teach how to prepare sentence. So thou you know 100 sentences, you are helpless to create 101st sentence yourself.
Here comes the necessity of learning grammar.

Students think that learning grammar is very tedious. And try to run away from it. Spoon feeding i.e. list of pre-created sentences will just keep u handicapped. So learn grammar, stand on your own feet and enjoy the journey.

So I have decided to keep fine balance between “ready made sentences” and grammar. So by speaking ready-made-full sentences you can keep alive you excitement. And by grammar you will nurture your foundation.

You can master the pronunciation of Gujarati by watching audio-video clips of these lessons at my YouTube channel.
YouTube Channel name 

So friends let us start the journey. Welcome to the world of Gujarati.  The language having history of around 1000 years, rich with its literature, philosophy, widespread influence in society.
Welcome !!!

No comments:

Post a Comment